Tech News

मास्क ना पहनने वालों की पहचान करने के लिए फ्रांस कर रहा AI का इस्तेमाल


टेक डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Thu, 07 May 2020 09:03 PM IST

ख़बर सुनें

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया के नाक में दम कर दिया है। तमाम देशों की सरकारें कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए कई तरह के जतन कर रही हैं, लेकिन कई लोग इसमें सरकार की मदद नहीं कर रहा हैं। कोई क्वारंटीन सेंटर से भाग जा रहा है तो कोई बिना मास्क लगाए ही बाहर घूम रहा है। फ्रांस की सरकार ने ऐसे लोगों पर नजर रखने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है।

फ्रांस की सरकार ऐसे लोगों को पकड़ने के लिए AI आधारित सिक्योरिटी कैमरे का इस्तेमाल कर रही है जो पेरिस मेट्रो में बिना मास्क सफर कर रहे हैं। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल पहले कई जगहों पर किया जा चुका है। हाल ही में इसे ट्रायल के तौर पर पेरिस के सेंट्रल चेटलेट-लेस हॉलेस स्टेशन में तीन महीने तक इस्तेमाल किया गया है। फ्रांस के डाटाकालैब (DatakaLab) ने इस प्रोग्राम को तैयार किया है ताकि बिना मास्क सफर करने वालों पर नजर रखी जा सके।

डाटाकालैब के सीईओ जेवियर फिशर ने इस सॉफ्टवेयर को लेकर कहा है कि उनका मकसद सिर्फ ऐसे लोगों की संख्या का पता लगाना है जो प्रतिदिन मास्क का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं, हालांकि यह साफ तौर पर कहा है कि इस निगरानी का मकसद किसी की चिन्हित करके उसे दंडित करना नहीं है।

बता दें कि फ्रांस में सार्वजनिक वाहनों में सफर के दौरान मास्क को अनिवार्य कर दिया गया है। यहां तक कि मेट्रो, ट्रेनों, बसों, या टैक्सियों में सफर के दौरान मास्क नहीं पहनने पर 145 डॉलर तक का जुर्माना लगाने पर भी विचार हो रहा है।

बता दें कि सीसीटीवी के जरिए लोगों की मॉनिटरिंग और फेशियल रिकॉग्निशन के कारण प्राइवेसी को लेकर कई देशों में बवाल हो चुका है लेकिन कोरोना महामारी में लोगों और सरकार की प्राथमिकता संक्रमण को रोकना है। ऐसे में प्राइवेसी फिलहाल दूसरी प्राथमिकत के तौर पर देखी जा रही है।
 

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया के नाक में दम कर दिया है। तमाम देशों की सरकारें कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए कई तरह के जतन कर रही हैं, लेकिन कई लोग इसमें सरकार की मदद नहीं कर रहा हैं। कोई क्वारंटीन सेंटर से भाग जा रहा है तो कोई बिना मास्क लगाए ही बाहर घूम रहा है। फ्रांस की सरकार ने ऐसे लोगों पर नजर रखने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है।

फ्रांस की सरकार ऐसे लोगों को पकड़ने के लिए AI आधारित सिक्योरिटी कैमरे का इस्तेमाल कर रही है जो पेरिस मेट्रो में बिना मास्क सफर कर रहे हैं। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल पहले कई जगहों पर किया जा चुका है। हाल ही में इसे ट्रायल के तौर पर पेरिस के सेंट्रल चेटलेट-लेस हॉलेस स्टेशन में तीन महीने तक इस्तेमाल किया गया है। फ्रांस के डाटाकालैब (DatakaLab) ने इस प्रोग्राम को तैयार किया है ताकि बिना मास्क सफर करने वालों पर नजर रखी जा सके।

डाटाकालैब के सीईओ जेवियर फिशर ने इस सॉफ्टवेयर को लेकर कहा है कि उनका मकसद सिर्फ ऐसे लोगों की संख्या का पता लगाना है जो प्रतिदिन मास्क का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं, हालांकि यह साफ तौर पर कहा है कि इस निगरानी का मकसद किसी की चिन्हित करके उसे दंडित करना नहीं है।

बता दें कि फ्रांस में सार्वजनिक वाहनों में सफर के दौरान मास्क को अनिवार्य कर दिया गया है। यहां तक कि मेट्रो, ट्रेनों, बसों, या टैक्सियों में सफर के दौरान मास्क नहीं पहनने पर 145 डॉलर तक का जुर्माना लगाने पर भी विचार हो रहा है।

बता दें कि सीसीटीवी के जरिए लोगों की मॉनिटरिंग और फेशियल रिकॉग्निशन के कारण प्राइवेसी को लेकर कई देशों में बवाल हो चुका है लेकिन कोरोना महामारी में लोगों और सरकार की प्राथमिकता संक्रमण को रोकना है। ऐसे में प्राइवेसी फिलहाल दूसरी प्राथमिकत के तौर पर देखी जा रही है।
 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close