Tech News

लॉकडाउन में ट्रक ड्राइवर्स के लिए वरदान बना यह मोबाइल एप, फटाफट मिलती है मदद


टेक डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Wed, 29 Apr 2020 09:08 PM IST

ख़बर सुनें

लॉकडाउन के दौरान राजमार्गों पर ढाबा और मैकेनिक की दुकानों के नहीं खुलने के कारण देशभर के तमाम ट्रक ड्राइवर्स को काफी परेशानी हो रही है, हालांकि एक मोबाइल एप ने ड्राइवर्स की परेशानियों को काफी हद तक कम कर दिया है। इस एप का नाम है फ्लीका (fleeca)। 

लॉकडाउन 2.0 के दौरान 3,000 ट्रक ड्राइवर्स को फ्लीका एप ने मदद की है। इस एप की के जरिए ड्राइवर्स को मेडिकल, खाने-पीने की चीजें और अन्य जरूरी सामान मुहैया कराया गया है। बता दें कि फ्लीका इंडिया एक टायर प्रबंधन स्टार्टअप है जिसने लॉकडाउन के दौरान राजमार्गों पर स्थित अपने 250 से अधिक सेंटर्स को चालू किया है।

अपनी इस पहल पर फ्लीका इंडिया के सीईओ तिकम जैन ने कहा, ‘ 22 अप्रैल से हमने राजमार्गों पर अपने फ्लीका सेंटर्स का संचालन शुरू किया। सरकार के निर्देशानुसार विशेष रूप से राजमार्गों पर ट्रक और अन्य हैवी व्हीकल्स की मरम्मत के लिए अनुमति मिलने के बाद लॉकडाउन के इस मुश्किल समय में फ्लीका ने 13 हाइवे पर अपने सेंटर्स खोल दिए। टायर का रख-रखाव सड़क पर सबसे आम जरूरतों में से एक है जो ट्रक मालिकों और ड्राइवर्स को समय पर डिलीवरी नहीं पहुंचाने का सबसे बड़ा कारण बनता है।’

लॉकडाउन की अवधि में में राजमार्गों पर ट्रक ड्राइवर्स से मरम्मत के नाम पर ऊंची कीमतें वसूली जा रही है लेकिन कंपनी का दावा है कि वह इस मुश्किल घड़ी में पारदर्शी मूल्य के साथ तत्काल और बेहतर सेवा दे रही है। सेवा का लाभ उठाने के लिए ट्रक ड्राइवर्स को फ्लीक एप डाउनलोड करना होगा जिसकी मदद से निकटतम फ्लीका
सेंटर्स का पता लगाया जा सकता है। इसके अलावा +91-7733999944 पर कॉल करके भी मदद ली जा सकती है। 

फ्लीका सेंट्रस पर दी जाने वाले सेवाओं में टायर फिटमेंट, टायर निकालना, पंचर रिपेयर, रोटेशन, व्हील एलाइनमेंट, फ्रेश और रिट्रेड टायर बिक्री आदि शामिल हैं। फ्लीका सेंटर्स की टीम वर्तमान में 9 राज्यों में 13 राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों पर सक्रिय रूप परिचालन कर रही है जिनमें दिल्ली-अहमदाबाद-मुंबई, दिल्ली-नासिक-मुंबई, मुंबई-बैंगलोर-चेन्नई, दिल्ली-कोलकाता, जयपुर-गांधीधाम, चित्तौड़- नीमच-दाहोद, पुणे-सोलापुर-हैदराबाद के राजमार्ग शामिल हैं।

लॉकडाउन के दौरान राजमार्गों पर ढाबा और मैकेनिक की दुकानों के नहीं खुलने के कारण देशभर के तमाम ट्रक ड्राइवर्स को काफी परेशानी हो रही है, हालांकि एक मोबाइल एप ने ड्राइवर्स की परेशानियों को काफी हद तक कम कर दिया है। इस एप का नाम है फ्लीका (fleeca)। 

लॉकडाउन 2.0 के दौरान 3,000 ट्रक ड्राइवर्स को फ्लीका एप ने मदद की है। इस एप की के जरिए ड्राइवर्स को मेडिकल, खाने-पीने की चीजें और अन्य जरूरी सामान मुहैया कराया गया है। बता दें कि फ्लीका इंडिया एक टायर प्रबंधन स्टार्टअप है जिसने लॉकडाउन के दौरान राजमार्गों पर स्थित अपने 250 से अधिक सेंटर्स को चालू किया है।
अपनी इस पहल पर फ्लीका इंडिया के सीईओ तिकम जैन ने कहा, ‘ 22 अप्रैल से हमने राजमार्गों पर अपने फ्लीका सेंटर्स का संचालन शुरू किया। सरकार के निर्देशानुसार विशेष रूप से राजमार्गों पर ट्रक और अन्य हैवी व्हीकल्स की मरम्मत के लिए अनुमति मिलने के बाद लॉकडाउन के इस मुश्किल समय में फ्लीका ने 13 हाइवे पर अपने सेंटर्स खोल दिए। टायर का रख-रखाव सड़क पर सबसे आम जरूरतों में से एक है जो ट्रक मालिकों और ड्राइवर्स को समय पर डिलीवरी नहीं पहुंचाने का सबसे बड़ा कारण बनता है।’

लॉकडाउन की अवधि में में राजमार्गों पर ट्रक ड्राइवर्स से मरम्मत के नाम पर ऊंची कीमतें वसूली जा रही है लेकिन कंपनी का दावा है कि वह इस मुश्किल घड़ी में पारदर्शी मूल्य के साथ तत्काल और बेहतर सेवा दे रही है। सेवा का लाभ उठाने के लिए ट्रक ड्राइवर्स को फ्लीक एप डाउनलोड करना होगा जिसकी मदद से निकटतम फ्लीका
सेंटर्स का पता लगाया जा सकता है। इसके अलावा +91-7733999944 पर कॉल करके भी मदद ली जा सकती है। 

फ्लीका सेंट्रस पर दी जाने वाले सेवाओं में टायर फिटमेंट, टायर निकालना, पंचर रिपेयर, रोटेशन, व्हील एलाइनमेंट, फ्रेश और रिट्रेड टायर बिक्री आदि शामिल हैं। फ्लीका सेंटर्स की टीम वर्तमान में 9 राज्यों में 13 राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों पर सक्रिय रूप परिचालन कर रही है जिनमें दिल्ली-अहमदाबाद-मुंबई, दिल्ली-नासिक-मुंबई, मुंबई-बैंगलोर-चेन्नई, दिल्ली-कोलकाता, जयपुर-गांधीधाम, चित्तौड़- नीमच-दाहोद, पुणे-सोलापुर-हैदराबाद के राजमार्ग शामिल हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close