Tech News

10% तक महंगे हो सकते हैं टेलिविजन, नॉन-चाइनीज ब्रैंड्स का बढ़ेगा दबदबा


प्रतीकात्मक फोटोप्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली

अगले महीने से टेलिविजन महंगे हो सकते हैं। चीन के साथ चल रहे तनाव का असर टीवी पैनल की सप्लाई पर देखने को मिल सकता है, जिससे टेलिविजन के दाम 5-10 फीसदी तक बढ़ सकते हैं। यह कहना है थॉमसन टीवी के एक्सक्लूसिव ब्रैंड लाइसेंसी SPPL (सुपर प्लास्ट्रोनिक्स प्राइवेट लिमिटेड) के सीईओ अवनीत सिंह मारवाह का। एनबीटी गैजेट्स नाऊ को दिए गए इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि 32 इंच वाले टेलिविजन के दाम में 500-1,000 रुपये की रेंज में बढ़ोतरी हो सकती है। वहीं, 43 इंच वाले टेलिविजन के दाम भी 5-10 फीसदी तक बढ़ सकते हैं। उन्होंने बताया कि आने वाले समय में नॉन-चाइनीज ब्रैंड्स को दबदबा बढ़ेगा।

मेक इन इंडिया के तहत 1,000 करोड़ रुपये का निवेश

कंपनी, देश के कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक सेगमेंट में अपनी स्थिति को और मजबूत करना चाहती है। अवनीत ने बताया कि हम ‘मेक इन इंडिया’ के तहत अगले 5 साल में 1,000 करोड़ रुपये का निवेश करेंगे। थॉमसन ने पिछले दिनों वॉशिंग मशीन्स लॉन्च करके होम अप्लायंसेज कैटिगरी में एंट्री की है। अवनीत ने बताया कि हम लगातार प्रीमियम अफॉर्डेबल प्रॉडक्ट्स ला रहे हैं। फीचर और क्वॉलिटी के मामले में हम किसी से कम नहीं है। हमने 3 साइज में सेमी-ऑटोमैटिक वॉशिंग मशीन उतारी हैं, जिनकी शुरुआती कीमत 6,999 रुपये है। उन्होंने बताया कि हम अपना पोर्टफोलियो लगातार बढ़ाएंगे और हर साल एक कैटिगरी में प्रॉडक्ट लगाएंगे।

NBT

SPPL के सीईओ अवनीत सिंह मरवाह

TV पैनल बनाने की फैक्ट्री लगाने में सरकार करे मदद

अवनीत ने बताया कि टेलिविजन की कीमत में टीवी पैनल की कॉस्ट 60-70 फीसदी होती है। फिलहाल, चीन, दक्षिण कोरिया, वियतनाम और ताइवान से टीवी पैनल का इंपोर्ट किया जाता है। उन्होंने कहा कि अगर टीवी पैनल यहीं बनने लगें तो इंडस्ट्री को काफी मदद मिलेगी। साथ ही, कीमत भी घटेगी। SPPL के सीईओ अवनीत सिंह मरवाह के मुताबिक, टीवी पैनल बनाने वाली फैक्ट्री में 10-15 हजार करोड़ रुपये के निवेश की जरूरत पड़ती है। साथ ही, मिलने वाले रिटर्न भी बहुत कम है। ऐसे में TV पैनल बनाने की फैक्ट्री लगाने में सरकार को मदद करनी चाहिए।

नॉन-चाइनीज ब्रैंड्स का बढ़ेगा दबदबा

अवनीत ने बताया कि मौजूदा स्थिति में चाइनीज प्रॉडक्ट्स को लेकर लोगों में काफी गुस्सा है। इसका सीधा फायदा नॉन-चाइनीज ब्रैंड्स को मिलेगा। हमने अपने प्रॉडक्ट्स में क्वॉलिटी और लेटेस्ट टेक्नॉलजी पर खासा फोकस किया है। गूगल में हमें लाइसेंस दिया। कंपनियों को अग्रेसिव प्राइसिंग पर भी जोर देना होगा। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ दिनों में हमें अपनी सेल्स में तेज उछाल देखने को मिला है। अगर लोगों को क्वॉलिटी के साथ अफॉर्डेबल ऑप्शन मिलेंगे तो लोग उसे जरूर पसंद करेंगे।

अगली स्टोरी

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close