Health News

COVID-19: वैज्ञानिकों ने माना कमजोर हो रहा कोरोना वायरस, जल्द बन सकती है वैक्सीन


अध्ययन में सामने आया कि कोरोना वायरस का वह स्पाइक प्रोटीन जिसकी मदद से यह हमारे फेफड़ों के ऊत्तकों से चिपक कर उनपर नियंत्रण कर लेता था उनमें अब परिवर्तन नहीं हो रहा है।

चीन के वुहान (CHINA’S VUHAN CITY) शहर के बाद इन दिनों एक बार फिर कोरोना की दूसरी लहर (SECOND WAVE OF COVID-19) देखने को मिल रही है और इस बार चीन की राजधानी बीजिंग (BEIJING) इसकी चपेट में है। यहां लगातार कुछ सप्ताह से कोरोना वायर संक्रमण के संदिग्ध और पॉजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं। गौरतलब है कि कोरोना वायरस अंटार्कटिका महाद्वीप को छोड़कर पूरी दुनिया में फैल चुका है। इसके संक्रमितों की संख्या हर बीते दिन के साथ तेजी से बढ़ती जा रही है। वर्तमान में कोविड-19 वायरस से दुनिया भर में करीब 8,609,833 लोग संंक्रमित हैं जबकि 6 छह महीने में ही इस वायरस के संक्रमण से 456,968 लोगों की मौत हो चुकी है। इसमें भी सबसे ज्यादा मौत अमरीका, दक्षिण एशिया और यूरोप में ही हुई हैं। वहीं बात करें भारत की तो 382,281 संक्रमितों के साथ भारत दुनिया का सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित देश बना हुआ है जहां महीने भर में ही मरने वालों की संख्या दोगुनी यानी 12615 हो चुकी है। संक्रमितों के मामले भी रोज नए रेकॉर्ड बना रहे हैं। गुरुवार को 13 हजार और बुधवार को 12800 से ज्यादा संक्रमित सामने आए हैं।

COVID-19: वैज्ञानिकों ने माना कमजोर हो रहा कोरोना वायरस, जल्द बन सकती है वैक्सीन

पहले 11 अब 24 स्ट्रेन आ चुके सामने
बीते साल दिसंबर में चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस का यह नया सदस्य कोविड-19 सामने आया था। लेकिन इन 6 महीनों में अलग-अलग देशों में कोरोना कोविड-19 के पहले 11 अब २४ अलग-अलग स्परूप यानी स्ट्रेन (CORONA MUTATION) सामने आ चुके हैं। इसके सबसे खतरनाक स्ट्रेन ने अमरीका, इटली, स्पेन, ब्राजील और फ्रांस मेंजबरदस्त तबाही मचाई है। कोविड-19 STRAIN जिसे वैज्ञानिक सार्स-कोव-02 भी कहते हैं के चलते पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पर संकट के बादल छाए हुए हैं।

COVID-19: वैज्ञानिकों ने माना कमजोर हो रहा कोरोना वायरस, जल्द बन सकती है वैक्सीन

वैज्ञानिक ढूंढ रहे कोरोना की काट
इस महामारी संकट से निजात पाने के लिए इस समय पूरी दुनिया के वैज्ञानिक और फार्मा कंपनियां इसकी वैक्सीन बनाने के काम में जुटे हुए हैं। को लेकर दुनियाभर के वैज्ञानिक लगे हुए हैं। लेकिन बहुत तेजी से वायरस के आरएनए में म्यूटेशन होने के कारण इसकी वैक्सीन बनाने में परेशानी आ रही है। हालांकि पिछले कुछ शोधों में वैज्ञानिकों का कहना है कि अब इस वायरस के म्यूटेशन की दर धीमी हो गई है। ऐसे में वैज्ञानिकों को विश्वास है कि जल्द ही कोई न कोई टीम कारगर वैक्सीन तैयार कर ही लेगी।

COVID-19: वैज्ञानिकों ने माना कमजोर हो रहा कोरोना वायरस, जल्द बन सकती है वैक्सीन

म्यूटेशन दर में आई कमी
दुनिया भर के देशों में कोरोना वायरस के आंकड़ों का डैशबोर्उ जारी करने वाली अमरीकन यूनिवर्सिटी जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं की एक टीम का कहना है कि छह महीने में २४ बार अपना स्वरूप बदल चुके इस बहरुपिये वायरस की म्यूटेशन दर अब कुन्द पडऩे लगी है। म्यूटेशन रेट में धीमी गति के कारण महीनों से वायरस की वैक्सीन बना रही वैज्ञानिकों की टीमों को अब कभी भी सफलता मिल सकती है। पहले से कमजोर हुए इस वायरस की काट तैयार करने में अब ज्यादा वक्त नहीं लगेगा।
जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने 20 हजार से अधिक कोरोना सैंपलों का अध्ययन किया है। अध्ययन में सामने आया कि कोरोना वायरस का वह स्पाइक प्रोटीन जिसकी मदद से यह हमारे फेफड़ों के ऊत्तकों से चिपक कर उनपर नियंत्रण कर लेता था उनमेंअब परिवर्तन नहीं हो रहा है।

COVID-19: वैज्ञानिकों ने माना कमजोर हो रहा कोरोना वायरस, जल्द बन सकती है वैक्सीन

वायरस के आरएनए को समझना हुआ सरल
कोरोना वायरस अब स्थिर है और यह समय वैक्सीन तैयार करने के लिए सबसे उचित है। क्योंकि यही वह समय है जब कोरोना वायरस के आरएनए का गहन अध्ययन कर उसे समझा जा सकता है। इससे कोरोना के खिलाफ एक कारगर वैक्सीन बनाने में मदद मिलेगी। वहीं बात करें भारत में वैक्सीन की तैयारियों की तो देश में कोरोना वैक्सीन बनाने पर कई भारतीयसंस्थान काम कर रहे हैं। फार्मा कंपनियों के अलावा निजी लैब, आयुर्वेद संस्थान और होम्योपैथी सहित भारतमेंपहले से मौजूद टीकों और दवाओं में इसका इलाज ढूंढा जा रहा है। अभी तक चार वैक्सीनों के परीक्षण परिणाम भी सकारात्मक रहे हैं।

COVID-19: वैज्ञानिकों ने माना कमजोर हो रहा कोरोना वायरस, जल्द बन सकती है वैक्सीन



Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close