World News

Iran ने America स्थित आतंकी संगठन के चीफ को पकड़ने का किया दावा


तेहरान। अमरीका और ईरान ( America Iran Tension ) के बीच कई मामलों पर तनाव चल रहा है। हालिया घटनाक्रम में दोनों देशों के बीच तल्खियां और भी बढ़ गई हैं। इस बीच ईरान ने एक सनसनीखेज दावा किया है। ईरान ने दावा किया है कि उसने अमरीका स्थित एक आतंकी संगठन ( US-Based Terrorist Group ) के चीफ को गिरफ्तार किया है।

ईरान ने कहा है कि 2008 में शिराज शहर स्थित एक मस्जिद में हुए धमाके के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। इस हमले में 14 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 200 से अधिक लोग घायल हुए थे। खुफिया मंत्रालय के हवाले से ईरान की सरकारी टेलीविजन ने बताया है कि उसने प्रतिबंधित आतंकी संगठन किंगडम असेंबली ऑफ ईरान के चीफ जमशेद शर्महाद ( Kingdom Assembly of Iran Chief Jamshid Sharmahd ) को गिरफ्तार कर लिया है।

Iran के राष्ट्रपति Hassan Rouhani का बड़ा बयान, देश में 2.5 करोड़ लोग हैं Corona संक्रमित

रिपोर्ट के मुताबिक, जमशेद शर्महाद के नेतृत्व में ही ईरान के अंदर कई सशस्त्र विद्रोह और तोड़फोड़ की घटनाएं हुई हैं। बता दें कि फिलहाल ये नहीं बताया गया है कि शर्महाद को कहां से और कब पकड़ा गया।

आतंकी संगठन का लॉस एंजिलिस में है मुख्यालय!

ईरानी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जमशेद शर्महाद राजशाही संगठन किंगडम असेंबली ऑफ ईरान ( Kingdom Assembly of Iran ) के प्रमुख हैं। इसका मुख्यालय अमरीका के लॉस एंजिलिस में है। इस संगठन का मकसद है कि ईरान में फिर से राजशाही शासन हो।

जमशेद शर्महाद की गिरफ्तारी को बकायदा ईरान में टेलिविजन पर प्रसारित किया गया। 2008 में ईरान के शिराज शहर के एक मस्जिद में हुए धमाके के कई आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका था। 2009 में इस बम विस्फोट के तीन दोषियों को फांसी दे दी गई थी, जबकि 2010 में दो अन्य दोषियों को फांसी दी गई थी। इन सभी ने अपने अपराध को स्वीकार किया था।

Iran और चीन के बीच समझौते की पारदर्शिता पर उठे सवाल, संसद में पहली बार बोले ईरानी विदेश मंत्री

जमशेद शर्महाद की गिरफ्तार के बाद ईरान ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि कर कहा है कि प्रतिबंधित आतंकी संगठन किंगडम असेंबली ऑफ ईरान ने देश में कई घटनाओं को अंजाम दिया है। हालांकि कई घटनाओं को अंजाम देने में विफल भी हुए हैं।

किंगडम असेंबली ऑफ ईरान ने तेहरान पुस्तक मेले ( Book Fair ) में साइनाइड बम का उपयोग करने, शिराज में एक बांध को उड़ाने और 2010 में ईरान के संस्थापक अयातुल्ला रुआल्लाह खोमिनी के मकबरे में एक विस्फोटक लगाने की योजना बनाई थी। बता दें कि पिछले महीने ईरान ने अमरीकी जासूस ( American Spy ) को फांसी दी थी। ईरान ने कहा था कि जासूस ने इजरायल और अमरीका को हमारी खुफिया जानकारियां बेची थी।












Source link

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close